Tuesday, July 26, 2011

बूढ़ा फंसे या जवान-हिन्दी हास्य कविता (boodha fanse ya jawan-hindi hasya kavita)

चेला भागता हुआ गुरु के पास आया
और बोला
‘‘अपने पास यह कैसा धर्म संकट आया है,
अपनी अधिग्रहीत जमीन वापस पाने की चाहत में
एक किसान ने दी है अपने आश्रम में हाजिरी
तो उधर एक उसकी जमीन पर
फ्लेट खरीदने वाले क्लर्क ने
भी आपका दरवाजा खटखटाया है,
आप तो बस, तथास्तु कहकर
छूट जाते हैं
मुझे ही करने पड़ते हैं
आपके आशीर्वाद को सत्य सिद्ध करने का काम,
इससे ही बढ़ता रहा है आपका नाम,
आपको शायद मालुम नहीं
किसान से कम भाव पर खरीदकर
भवन निर्माता को दी गयी,
इधर क्लर्क को घन का सपना दिखाकर
भारी रकम ली गयी,
मामला अब उलझ गया है,
यह मामला एकदम नया है,
किसान चला रहा है
अपने साथियों से मिलकर
जमीन वापस पाने का अभियान,,
इधर क्लर्क भी अपनी बाहें रहा है तान,
इन दोनों के हल कैसे होगा
मेरी समझ में नहीं आया।’’

सुनकर गुरूजी हंसे फिर बोले
‘इसलिये हम गुरु बने रहे
तू रहा पुराना चेला
जबकि तेरे जैसे मेरे पास कई चेले नये हैं,
किसान और क्लर्क ही
अपने पास नहीं आते,
बड़े बड़े दौलतमंद और ओहदेदार
मेरे यहां सिर झुकाते
सभी को देते हम विजयी भव का आशीर्वाद,
जो जीता वह हमारे गुण गाता
जो हारा नहीं रहता उसे कुछ याद,
जिसका काम हो जाये
उस पर हमारी कृपा होने का तुम दावा करना,
जिसका न बने उसका जिम्मा
सर्वशक्तिमान की इच्छा पर धरना,
आपना काम है बस दान और चंदा लेना,
समाज के ग्राहक को चमत्कार के नाम पर
धर्म का धंधा देना,
जाल में बूढ़ा फंसे या जवान,
हमें तो बस है आशीर्वाद देने से काम,
यही मेरे गुरु से मुझे बताया।’’
कवि, लेखक एवं संपादक-दीपक ‘भारतदीप’ग्वालियर
jpoet, Writer and editor-Deepak 'Bharatdeep',Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
 
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अभिव्यक्ति पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका

४.दीपकबापू कहिन
5.हिन्दी पत्रिका 
६.ईपत्रिका 
७.जागरण पत्रिका 
८.हिन्दी सरिता पत्रिका 
९.शब्द पत्रिका

Post a Comment

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

लोकप्रिय पत्रिकाएँ

विशिष्ट पत्रिकाएँ