Thursday, May 14, 2009

अटूट यारी-त्रिपदम (tripadam)

सती सावित्री!
आधुनिक युग में
एक बिचारी।

स्वतंत्रता!
दिलाने की फिर भी
एक लाचारी।

काव्यात्मक
अभिव्यक्ति में
दिखायें हारी।

व्यर्थ होगा
अगर दिखाते हैं
विजेता नारी।

कम शब्द
दर्द अधिक मांगें
ये व्यापारी।

इतने घाव
दिखते नहीं होंगे
बेचें लाचारी।

खरीददार
फंस जाता जाल में
अक्ल मारी।

बदलाव की
केवल बात देखें
कोशिशें जारी।

चलता चक्र
निरंतर स्वयं
बातें हैं सारी।

स्त्री पुरुष
उगे हैं यहां पर
अटूट यारी।

.........................
लेखक के अन्य ब्लाग/पत्रिकाएं भी हैं। वह अवश्य पढ़ें।
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान-पत्रिका
4.अनंत शब्दयोग
कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

Nirmla Kapila said...

बहुत ही भावमय अभिव्यक्ति है बधाई

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

लोकप्रिय पत्रिकाएँ

विशिष्ट पत्रिकाएँ